इश्क

इश्क

दिल में न हो इश्क
तो इंसान मुहब्बत को खेल
रिश्तों को तजुरबा
जिंदगी को समझौता कहता है

 

Advertisements

तकलीफ़ 

तुम साथ न चलो मेरी राह पे
इस बात का शिकवा नहीं है मुझे 

पर रूठ जाते हो जब मेरे सफर से 

तो कदमों को तकलीफ़ होती है

तुम न उड़ो मेरे आसमां में

इस बात का शिकवा नहीं है मुझे

पर रूठ जाते हो जब मेरी परवाज़ से

तो हौसलों को तकलीफ़ होती है

तुम न देखो ख़्वाब मेरे

इस बात का शिकवा नहीं है मुझे

पर रूठ जाते हो जब मेरी नज़रों से

तो नींद को तकलीफ़ होती है

तुम न पढ़ो नग़मे मेरे

इस बात का शिकवा नहीं है मुझे

पर रूठ जाते हो जब मेरे लफजो से

तो खयाल को तकलीफ़ होती है

तुम न करो महुबबत मुझसे

इस बात का शिकवा नहीं है मुझे

पर रूठ जाते हो जब जज़्बातों से

तो रिश्ते को तकलीफ़ होती है

ज़हरीली हवा

इंसान सी औलाद पा कर
पशेमान है क़ुदरत का आँचल 

हैरान है इस नादाँ की शैतानी पे

नाराज़ है इस कमज़र्फ की मनमानी पे

जिस हवा नें साँसें बख़्शी इसे

उस में घोल रहा रोज जहर नये

जिस माँ की गोद में पल बड़ा हुआ

उसके क़त्ल की करता रोज साज़िश नयी

माँ अफ़सोस के आँसू तब रोती है

आँचल में अपने सिर्फ़ जहर जब देखती है

इक इंसान की नादानी की सजा

मजबूर माँ तमाम मासूमों को देती है

तीन बंदर

अच्छा है बुरा न कहना
पर बहुत बुरा है 

बुरे को बुरा न कहना

अच्छा है बुरा न सुनना

पर बहुत बुरा है

बुरे मे लिपटा सच न सुनना 

अच्छा है बुरा न देखना

पर बहुत बुरा है

बुरे को नंजरअंदाज करना

अच्छा है महात्मा के वचन दोहराना

पर बहुत बुरा है 

किसी का बंदर बन रह जाना

अकसर 

अकसर देखा है मैंने 
उन्हे ख़ुद से जंग लड़ते हुये

शांति का परचम थामे जो

मौन खड़े मुस्करा रहे थे 

अकसर देखा है मैंने

उन्हें ज़िंदा लाश बनते हुये

मुद्ददत से काँधो पे जो

रिश्तों के जनाज़े उठा रहे थे

अकसर देखा है मैंने

उन्हें शिगाफ होते हुये

औरों की बताई जिंदगी जो

एक उमर से जीते जा रहे थे

अकसर देखा है मैंने 

उन्हें बेसबब भटकते हुये

भीड़ का हिस्सा बन जो

मँजिल तलाशे जा रहे थे

अकसर देखा है मैंने 

उन्हें ख़ंजर की धार बनाते

बातों की चाशनी में जो

मुझे डुबाये जा रहे थे

राष्ट्रीय गान

सच कहते हो तुम
बिलकुल सच

राष्ट्रीय गान पे खड़े होने से 

देशभक्त नहीं बन सकते

तुम तो हरगिज़ नहीं

सच कहते हो तुम

बिलकुल सच

देशभक्ति दिल में होती है

बाहर से थोपी नहीं जा सकती

तुम पे तो हरगिज़ नहीं

सच यह भी है

बिलकुल सच

दिल मे देशभक्ती होती अगर

जुबाँ पे तुम्हारे इंकार न होता

बरबस खड़े होते राष्ट्रीय गान पे

थोपे जाने का मन मे मलाल न होता

सच यह भी है

दुखद सच

न्यायालय देता है आदेश

नहीं आवश्यक तुम्हारा खड़ा होना

जाओ कह दो सीमा पे तैनात उस फ़ौजी से भी 

नहीं आवश्यक तिरंगे में लिपट घर लौटना

# करवाचौथ

जानती हूँ कि व्रत से तुम्हारी आयु नहीं बढ़ेगी 
अच्छा लगता है तुम्हारे लम्बे साथ की दुआ करना

चाँद का इंतजार बेक़रार करता है मगर

अच्छा लगता है संग तुम्हारे आँसमा तकना

अच्छा लगता है चाँद के बाद तुम्हें देखना

छलनी के पीछे तुम्हारा यूँ मुस्करा के मुझे छेड़ना 

मेरे अर्पित जल से चाँद को कोई सरोकार नहीं

अच्छा लगता है तुम्हारे हाथ दो घूँट पीना

अच्छा लगता है तुम्हारा खिलाया इक कौर

मेरी भूख प्यास की तुम्हें यूँ परवाह होना

साज सरिंगार के बिना भी पसन्द हूँ मैं तुम्हें

अच्छा लगता है तुम्हारे लिये सजना

अच्छा लगता है फिर तुम्हारी दुल्हन बनना

तुम्हारा मुझे यूँ अपना चाँद कहना 

जानती हूँ कि व्रत से तुम्हारी आयु नहीं बढ़ेगी 

अच्छा लगता है तुम्हारे लम्बे साथ की दुआ करना

-मेजर (डा) शालिनी सिंह