ख़ामोश 

कहने के लिए है तूफ़ान 

फिर भी बहुत ख़ामोश हूँ मैं

दिल में लगी गिरह में

क़ैद है अब जुबां मेरी 

 

Advertisements