बेपरवाह

तेरी यादों की बारिश भी

नाकाम है अब मुझे भिगोने में

बेपरवाई की छतरी तानें

तनहा हूँ पर बेहद महफ़ूज़ मैं

  

Advertisements