सयानापन

सयानी बातों के बोझ से 

झुक जाते हैं काँधे मेरे

मुझे मेरी दिवानगी के साथ

यूँ हल्की महफ़िल में बुलाया न करो 

Advertisements