शतरंज

जिंदगी की बिसात पे सब

लफ़्ज़ों के मोहरे चल रहे

जज़्बातों के प्यादे पिट रहे

ज़मीर के बादशाह लुट रहे

Advertisements