साया

लाख चाहा उन्हें रोशन कर दूँ

अंधेरा ही था पर वजूद उनका

बुझा रहे थे जो हर लम्हा नूर मेरा

उन सायों को कह दिया अलविदा मैंने 

Advertisements