तकलीफ़ 

तुम साथ न चलो मेरी राह पे
इस बात का शिकवा नहीं है मुझे 

पर रूठ जाते हो जब मेरे सफर से 

तो कदमों को तकलीफ़ होती है

तुम न उड़ो मेरे आसमां में

इस बात का शिकवा नहीं है मुझे

पर रूठ जाते हो जब मेरी परवाज़ से

तो हौसलों को तकलीफ़ होती है

तुम न देखो ख़्वाब मेरे

इस बात का शिकवा नहीं है मुझे

पर रूठ जाते हो जब मेरी नज़रों से

तो नींद को तकलीफ़ होती है

तुम न पढ़ो नग़मे मेरे

इस बात का शिकवा नहीं है मुझे

पर रूठ जाते हो जब मेरे लफजो से

तो खयाल को तकलीफ़ होती है

तुम न करो महुबबत मुझसे

इस बात का शिकवा नहीं है मुझे

पर रूठ जाते हो जब जज़्बातों से

तो रिश्ते को तकलीफ़ होती है

Advertisements

ज़हरीली हवा

इंसान सी औलाद पा कर
पशेमान है क़ुदरत का आँचल 

हैरान है इस नादाँ की शैतानी पे

नाराज़ है इस कमज़र्फ की मनमानी पे

जिस हवा नें साँसें बख़्शी इसे

उस में घोल रहा रोज जहर नये

जिस माँ की गोद में पल बड़ा हुआ

उसके क़त्ल की करता रोज साज़िश नयी

माँ अफ़सोस के आँसू तब रोती है

आँचल में अपने सिर्फ़ जहर जब देखती है

इक इंसान की नादानी की सजा

मजबूर माँ तमाम मासूमों को देती है

तीन बंदर

अच्छा है बुरा न कहना
पर बहुत बुरा है 

बुरे को बुरा न कहना

अच्छा है बुरा न सुनना

पर बहुत बुरा है

बुरे मे लिपटा सच न सुनना 

अच्छा है बुरा न देखना

पर बहुत बुरा है

बुरे को नंजरअंदाज करना

अच्छा है महात्मा के वचन दोहराना

पर बहुत बुरा है 

किसी का बंदर बन रह जाना

अकसर 

अकसर देखा है मैंने 
उन्हे ख़ुद से जंग लड़ते हुये

शांति का परचम थामे जो

मौन खड़े मुस्करा रहे थे 

अकसर देखा है मैंने

उन्हें ज़िंदा लाश बनते हुये

मुद्ददत से काँधो पे जो

रिश्तों के जनाज़े उठा रहे थे

अकसर देखा है मैंने

उन्हें शिगाफ होते हुये

औरों की बताई जिंदगी जो

एक उमर से जीते जा रहे थे

अकसर देखा है मैंने 

उन्हें बेसबब भटकते हुये

भीड़ का हिस्सा बन जो

मँजिल तलाशे जा रहे थे

अकसर देखा है मैंने 

उन्हें ख़ंजर की धार बनाते

बातों की चाशनी में जो

मुझे डुबाये जा रहे थे

राष्ट्रीय गान

सच कहते हो तुम
बिलकुल सच

राष्ट्रीय गान पे खड़े होने से 

देशभक्त नहीं बन सकते

तुम तो हरगिज़ नहीं

सच कहते हो तुम

बिलकुल सच

देशभक्ति दिल में होती है

बाहर से थोपी नहीं जा सकती

तुम पे तो हरगिज़ नहीं

सच यह भी है

बिलकुल सच

दिल मे देशभक्ती होती अगर

जुबाँ पे तुम्हारे इंकार न होता

बरबस खड़े होते राष्ट्रीय गान पे

थोपे जाने का मन मे मलाल न होता

सच यह भी है

दुखद सच

न्यायालय देता है आदेश

नहीं आवश्यक तुम्हारा खड़ा होना

जाओ कह दो सीमा पे तैनात उस फ़ौजी से भी 

नहीं आवश्यक तिरंगे में लिपट घर लौटना